एकात्म यात्रा से जन-जन को जोड़ने की पहल-संत श्री संत महामण्डेश्वर 1008 श्री

0

मुरैना  – ईपत्रकार.कॉम |आदि शंकराचार्य के आध्यत्मिक सांस्कृतिक व भारत की एकता अखण्ड़ता में किए गए योगदान को जन-जन तक पहुंचाने तथा ओंकारेश्वर में 108 फीट ऊंची उनकी मूर्ति की स्थापना में प्रत्येक व्यक्ति की भागीदारी सुनिश्चित करने के उद्देश्य से एकात्म यात्रा का आयोजन किया गया है। इस यात्रा से जन-जन को जोड़ने की पहल जारी है। उक्त उदगार संत महामण्डेश्वर 1008 श्री प्रणवानन्द सरस्वती जी महाराज ब्रंद्रावन ने जिले की अम्बाह नगर पालिका प्रांगण में आयोजित जन संवाद समारोह में व्यक्त किए। समारोह में नगर मण्डल अध्यक्ष श्री कवन्द्रि सिंह ने आदि गुरू शंकराचार्य जी के चित्र पर दीप प्रज्जवलित कर उनकी चरण पादुका पूजन किया गया। नगर पालिका पारिषद के उपाध्यक्ष श्री नीतू तोमर, श्री खेम सिंह भदौरिया, प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्य श्री गजेन्द्र सिंह तोमर, श्री बच्चू लाल गुप्ता ने अगवानी की।

ओंकारेश्वर के मण्डलेश्वर संत महामण्डेश्वर 1008 श्री प्रणवानन्द सरस्वती जी महाराज ने एकात्म यात्रा के उद्देश्य पर प्रकाश डालते हुए कहा कि आदि गुरू शंकराचार्य का जन्म साढे बारह सौ वर्ष पूर्व केरल में हुआ था। उन्होंने आठ वर्ष की अवस्था में ही गृह त्याग कर विखंडित हो रहे भारत वर्ष को एक सूत्र में पिरोने का काम किया। वह साक्षात भगवान के रूप थे उन्होंने कहा कि आत्मा एक है जो प्रत्येक जीव में विचरण कर रही है यह अद्वैत बात है। उन्होंने दो हजार किलो मीटर पैदल चलकर भारत वर्ष को सांस्कृतिक एकता के सूत्र में पिरोया। साथ ही जन जन में एकात्मता का संदेश पहुंचाने की पहल की थी। इस पहल से समाज संगठित होकर वेैदिक सिद्वांतो पर चला था। इसलिए हम सभी को उनके सिद्वांतो को आत्मसात करना चाहिए।

संत महामण्डेश्वर 1008 श्री राधे राधे बाबा इन्दौर महाराज ने कहा कि एकात्म यात्रा का उद्देश्य है ओंकारेश्वर मंे 108 फीट ऊंची उनकी मूर्ति की स्थापना में प्रत्येक व्यक्ति की भागीदारी सुनिश्चित करना है! प्रदेश की प्रत्येक पंचायत से धातु एवं कलश एकत्रित करके उन्हे लगाकर एक बडी विशाल मूर्ति बनाई जायेगी। जिसमें सभी भागीदारी रहेगी। उन्होंने कहा कि ओंकारेश्वर में प्रतिमा का शिलान्यास 22 जनवरी 2018 को किया जावेगा।

इस अवसर पर नेहरू युवा केन्द्र के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भाजपा के प्रदेश महामंत्री श्री बी डी शर्मा, पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष श्री तपन भौमिक भाजपा जिला अध्यक्ष श्री अनूप सिंह भदौरिया, पूर्व विधायक श्री शिवमंगल सिंह तोमर, श्रीमती संध्याराय, पूर्व विधायक श्री कमलेश सुमन, श्री गणेश तोमर, श्रीमती कंचन सिंह चौहान,छात्रा साक्षी तोमर, बच्चू लाल गुप्ता, श्री पप्पू तोमर, श्री गिरवर सिंह आचार्य आनन्द क्लब, ब्राइट कैरियर अकादमी, द राइजिंग स्टार स्कूल के बच्चों की शंकराचार्य की मंडली के रूप में बच्चे सम्मिलित हुये। आर्ट ऑफ लीविंग, संकल्प समाज सेवा संस्थान, रोटरी क्लव, संजीवनी संस्थाओं का सराहनीय योगदान रहा।

यात्रा पहुंचने पर जगह-जगह ऐतिहासिक स्वागत
आदि गुरू शंकराचार्य जी की प्रतिमा के लिए धातु संग्रहण हेतु निकाली गई एकात्म यात्रा का पोरसा से निकलते ही सैथर अहीर, थराऔर अम्बाह में पुष्प वर्षा से स्वागत हुआ।

अम्बाह से मुरैना मे जोरदार स्वागत
आदि गुरू शंकराचार्य जी की प्रतिमा के लिए धातु संग्रहण हेतु करीब एक दर्जन गांवों में तोरण द्वार बनाये गये, जिसमें बेरह, गोठ, रानपुर, रतीरामपुरा, दिमनी, बडागांव, खेडा मेवदा, जींगनी, मुडिया खेडा और बडोखर में जोरदार स्वागत हुआ।