गोल्ड ज्वेलरी खरीदते वक्त रखें इन बातों का ध्यान

0
543

हम भारतीयों के लिए गोल्ड ज्वेलरी सिर्फ सजने के तौर पर ही नहीं ली जाती बल्कि ये हमारी संस्कृति और परंपरा का हिस्सा हैं। हालांकि आपको गोल्ड ज्वेलरी को खरीदने का कोई वाजिब कारण नहीं होता हैं। लेकिन शादी के अवसर पर हर कोई गोल्ड ज्वेलरी खरीदता हैं। शादी में दुल्हन का श्रृंगार गोल्ड ज्वेलरी के बिना अधूरा रहता हैं।

हालांकि सोने के गहने खरीदने में आपकी कई सालों की मेहनत की कमाई जाती है इसलिए आपको इसे खरीदते वक्त कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए ताकि आपके खून-पसीने की कमाई पानी में ना चली जाए। तो शोरूम में चढ़ने से पहले जान ले ये कुछ बातें….

1. गोल्ड ज्वेलरी खरीदते समय आपको ये ध्यान में रखना होगा कि इसके कई रूप होते हैं जो कि उसकी पवित्रता, डिजाइन और वजन पर निर्भर करता हैं।

2. दूसरी बात जो गोल्ड ज्वेलरी खरीदते वक्त महत्व रखती हैं, वो है उसकी शुध्दता…दरअसल शुध्द सोने के गहने बहुत नरम होते हैं, इसलिए पहनने के तौर पर बनाने के उसमें चांदी, तांबा, निकल और जस्ता को मिक्स किया जाता हैं। सोने के गहने की आम शुध्दता मानक 18के, 22के और 24के होती हैं।

3. सोने के गहनों के दाम दो फेक्टर पर निर्भर करते हैं, पहला उसकी शुध्दता, दूसरा सोना में कितना मेटल मिक्स है और तीसरा उसका डिजाइन। जितनी अच्छा उसका डिजाइन होगा उतना ही उसका दाम होता हैं।

4. सोना कई रूपों में आता हैं। पारंपरिक पीले सोने के अलावा, सफेद और रोस सोना भी बाजार में मिलता हैं। आपको सोने के गहने 2 प्रकार के रंगों में भी मिलते हैं। सफेद रंग को सोना- पीला सोना, चांदी और पैलेडियम को मिलाकर बनाता हैं। रोस गोल्ड – कॉपर और रोस गोल्ड को मिलाकर बनता हैं। इसके अलावा ग्रीन, पर्पिल और ब्लैक कलर का गोल्ड भी बाजार में मौजूद होता हैं। लेकिन भारत में गोल्ड ज्वेलरी को ज्यादा प्राथमिकता मिलती हैं।

5. आप जब भी गोल्ड ज्वेलरी खरीदने जाएं तो हमेशा ध्यान रखें कि उस पर बीआइएस हॉलमार्क हो, ये उसकी शुध्दता का प्रमाण होता हैं। हालांकी ऐसी ज्वेलरी के दाम अलग होते हैं। अगर आप किसी लोकल दुकानदार से गोल्ड ज्वेलरी लेंगे तो आपको किफायती पड़ेगी।

6. ज्यादातर ब्रांडेड ज्वेलरी बेचने वाले गोल्ड खरीदने पर आपको इनवॉयस देते हैं जिसमें उसके दाम, शुध्दता, तारीक और हॉलमार्क लाइसेंस मौजूद होता हैं।

7. अगर आपको सोना खरीदने के बाद कुछ संदेह हो तो आप पास में किसी हॉलमार्किंग केंद्र में जाकर कम फीस में इसकी जांच करा सकते हैं।