प्‍यार की है तलाश, कहीं जल्‍दबाजी में ये गलतियां न कर बैठें आप

0
87

अक्‍सर जीवनसाथी की तलाश में हम कुछ ऐसी गलतियां कर बैठते हैं, जो हमें ताउम्र पछताने पर विवश कर देती हैं. इसनिए जब भी आप अपने लिए तलाश रहे हों एक साथ, तो याद रखें कुछ बातों को…

परफेक्ट की तलाश
अक्‍सर हम अपने लिए मिस्‍टर या मिस परफेक्‍ट को तलाशते हैं. लेकिन जरा सोचें कि क्‍या आप परफेक्ट हैं. सच तो यह है कि हम सभी में कोई भी परफेक्‍ट नहीं. जब भी आपके मन में साथी तलाश जागे, तो किसी से परफेक्‍ट होने की उम्‍मीद न करें. यह देखें कि जिस तरह आपमें कुछ कमियां और कुछ अच्‍छाई. ठीक उसी तरह उनमें में दोनों बातें होंगी. देखें तो बस इतना कि आप उनके साथ कितना तालमेल बिठा पाते हैं और कितना नहीं.

प्‍यार में अंधे न हों:
कहा जाता है कि प्‍यार तो अंधा होता है. कई मामलों में यह बात सही साबित होती है. जब किशोर प्‍यार में आकर बिना सोचे समझे ही शादी का फैसला ले लेते हैं. अक्‍सर विवाह से पहले या रिश्‍ते के दौरान ही इस बात का अहसास हो जाता है कि रिलेशनशिप काम नहीं कर रहा. आप दोनों ही एक-दूसरे के लिए नहीं. ऐसे में बस यह सोचकर कि आपका रिलेशनशिप बहुत साल का है या साथी जैसा भी है आप उसे प्‍यार करते हैं जीवन भर साथ रहने का फैसना न लें. प्रैक्टिकल होकर सोचें और अपने भविष्‍य के लिए बेहतर फैसला लें.
बाद में सब बदल जाएगा:
अगर आप किसी को थोड़ा बहुत पसंद करते हैं, उसकी कुछ आदतें आपको पसंद नहीं, लेकिन फिर भी आप यह सोचकर की बाद में सब ठीक होगा या बदल जाएगा उसके साथ रिश्‍ते को आगे बढ़ाते हैं, तो यह खतरनाक हो सकता है. कभी-कभी हम जल्‍दबाजी में या फिर बिना गंभीरता से लिए बड़े फैसले ले लेते हैं. ऐसी गलती न करें.

परिवार के खिलाफ:
अक्‍सर युवा प्रेम में आकर अपने परिवार को छोड़ कर या नाराज कर विवाह जैसे फैसले ले लेते हैं. और बाद में आपको महसूस होता है कि आपने गलत कदम उठाया. ऐसे में आप खुद को बहुत अकेला पाते हैं. हो सकता है कि आप जीवन में खुश हों. लेकिन जरा सोचिए वह खुशी कैसी, जिसे आप अपने परिवार से साझा न कर सकें.