बच्चों और ऑफिस की जिम्मेदारी साथ-साथ कैसे निभाएं

0
34

कामकाजी मां के ऊपर दोहरी जिम्मेदारी होती है. घर और बच्चों की जिम्मेदारी को निभाते हुए ऑफिस के काम को संभालना आसान आसान नहीं है. क्योंकि अगर वो बच्चों का ध्यान रखती है तो ऑफिस के काम छूटने लगते हैं और अगर ऑफिस के काम को तवज्जों दें तो बच्चों को पर्याप्त समय नहीं दे पाती हैं अगर आप भी नई-नई मां बनी हैं और इस बात से परेशान हैं कि ऑफिस और घर के बीच तालमेल कैसे बिठाएं,

अपनी प्राथमिकता तय करें
इस बात को याद रखें कि जीवन में आपके लिए सबसे जरूरी क्या है? उसके हिसाब से ही अपनी प्राथमिकताएं तय करें. एक सूची बनाएं और देखें कि सबसे ऊपर क्या आता है. अगर बच्चा आपकी प्राथमिकता है तो उसकी देखभाल के लिए आप क्या-क्या कर सकती हैं और किन-किन चीजों के साथ समझौता कर सकती हैं इसकी सीमा तय करें. मसलन, ऑफिस से निकलने के बाद शॉपिंग की बजाए बच्चे को समय दें. दोस्तों के फिल्म देखने की बजाय बच्चे के साथ पार्क जाएं आदि…

सपोर्ट सिस्टम तैयार करें
बच्चे की देखभाल आपसे अच्छा कोई और नहीं कर सकता. पर ऑफिस में आप एकाग्र होकर काम कर सकें, इसके लिए जरूरी है कि आपके पास घर बच्चे को देखने के लिए सपोर्ट सिस्टम हो. हां, जिस पर आपको ज्यादा भरोसा हो, उसके साथ ही बच्चे को छोड़ें.

ऑफिस चुने जरा समझदारी से
कई दफ्तरों में आठ घंटे की बजाय 9 या 10 घंटे की नौकरी होती है. इसके अलावा ऑफिस को अतिरिक्त समय देने की भी उम्मीद की जाती है. अगर ऐसा है तो आपके लिए ऐसी नौकरी ठीक नहीं है. आप कोई ऐसी नौकरी करें, जिसमें आप जरूरत पड़ने पर घर बैठे-बैठे भी काम कर सकती हैं.

योजनाबद्ध तरीके से करें काम
अगर योजनाएं बना कर काम किया जाए तो काफी समय बचाया जा सकता है. इसलिए घर हो या दफ्तर, योजना बनाकर काम करें. अगर संभव हो तो काम की सूची बना लें.