माँ नर्मदा और पर्यावरण को बचाने सभी समाज के लोग आ रहे आगे

0
65

माँ नर्मदा और पर्यावरण को बचाने के लिये सभी समाज और वर्ग के लोग सामने आ रहे हैं। स्कूल शिक्षा मंत्री कुंवर विजय शाह ने यह बात ‘नमामि देवी नर्मदे”- सेवा यात्रा के हरदा जिले में 10 वें दिन ग्राम करनपुरा में जन-संवाद में कही। कुंवर विजय शाह ने कहा कि अपने और समाज को धन्य करने के लिये इस अभियान में सभी योगदान करें। उन्होंने कहा कि‍ नर्मदा सेवा यात्री भावी पीढ़ी के लिये कार्य कर रहे हैं।

स्कूल शिक्षा मंत्री ने नर्मदा के तटों पर पौध-रोपण, स्वच्‍छता, रसायनिक उर्वरकों एवं कीटनाशकों का उपयोग नहीं करने, जैविक खेती अपनाने, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं, नशामुक्ति और नर्मदा की निर्मलता बनाये रखने के लिए हरसंभव प्रयास करने तथा इसके लिए दूसरों को प्रेरित करने का संकल्प दिलवाया। कुंवर विजय शाह ने करनपुरा की नर्मदा सेवा समिति के नामों की घोषणा की।

पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष श्री तपन भौमिक ने कहा कि माँ नर्मदा में गंदे पानी का प्रवाह और वहाँ गंदगी करने से रोकना होगा। जन-संवाद में पूर्व मंत्री श्री कमल पटेल ने कहा कि माँ नर्मदा को प्रदूषणमुक्त करवाना ही होगा। आने वाली पीढ़ी को सुखी और समृद्ध देखना हो तो माँ नर्मदा के तट पर पौध-रोपण करें। इस मौंके पर महामण्डलेश्वर रामदासजी महाराज और महंत मंजूदास त्यागी ने भी विचार व्यक्त किये।

जन-संवाद में बताया गया कि नदी के घाटों में महिलाओं को कपड़े बदलने के लिये चेंजिंग रूम बनवाए जायेंगे। मुक्ति-धाम और पूजन-कुंड तथा गंदे पानी का प्रवाह रोकने के लिये सीवेज ट्रीटमेंट प्लाँट लगवाए जायेंगे। नर्मदा के तट पर अपनी ज़मीन में पौधे लगाने पर तीन वर्ष तक अनुदान दिया जायेगा। नदी के तट के शहरों-ग्रामों में शराब की दुकान नहीं खोली जायेगी।

यात्रा का ग्राम सोनतलाई और करनपुरा के ग्रामीणों ने भाव-भीना स्वागत किया। इस दौरान साधु-संत, मध्यप्रदेश जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पांडेय, जन-प्रतिनिधि एवं ग्रामीण उपस्थित थे।