मैं बढ़ता हूँ ज़िन्दगी की तरफ लेकिन……

0

जब रूह किसी बोझ से थक जाती है,

एहसास की लौ और भी बढ़ जाती है,

मैं बढ़ता हूँ ज़िन्दगी की तरफ लेकिन,

ज़ंजीर सी पाँव में छनक जाती है।