ये उस शख्स से दिल लगाने की सज़ा है।

0

रोने की सज़ा है न रुलाने की सज़ा है,

ये दर्द मोहब्बत को निभाने की सज़ा है,

हँसते हैं तो आँखों से निकलते हैं आँसू,

ये उस शख्स से दिल लगाने की सज़ा है।