‘जनता का दर्द, मेरा दर्द; इस्लामी आतंकवाद को करूंगा खत्म’-ट्रंप

0

वॉशिंगटन।डोनाल्ड ट्रंप ने अमरीका के 45वें राष्ट्रपति पद की शपथ ले ली है। उन्होंने कहा, ‘मेरा प्रशासन दुनिया से ‘कट्टरपंथी इस्लामी आतंकवाद’ का सफाया करेगा। अमरीकियों की नौकरियां बहाल करेगा।’ 70 साल के ट्रंप ने नेशनल मॉल में करीब आठ लाख लोगों के समक्ष शपथ ली।

इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ दुनिया को करेंगे एकजुट
ट्रंप ने कहा, ‘हम दुनिया को कट्टरपंथी इस्लामी आतंकवाद के खिलाफ एकजुट करेंगे। पृथ्वी से आतंकवाद को खत्म करेंगे। हमारा लक्ष्य पुराने गठजोड़ों को नई ताकत और नया स्वरूप देना है।’ ट्रंप ने अमरीकी नौकरियों पर बात करते हुए कहा कि नेता समृद्ध हुए, लेकिन जनता की नौकरियां चली गईं। फैक्टरियां बंद हो गईं। प्रशासनिक प्रतिष्ठान ने खुद की रक्षा की, लेकिन हमारे देश के नागरिकों की रक्षा नहीं की।

सिर्फ बात नहीं, काम करूंगा
पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा की मौजूदगी में ट्रंप ने कहा, खोखली बातों का दौर बीत गया है। काम का वक्त आ गया है। ये सारे बदलाव यहीं और अभी से हो रहे हैं, क्योंकि यह क्षण आपका क्षण है। ये मायने नहीं रखता कि सरकार पर किस पार्टी का नियंत्रण है, बल्कि यह मायने रखता है कि क्या सरकार पर जनता का नियंत्रण है।

सरकार का मूलमंत्र होगा ‘अमरीका फर्स्ट’
ट्रंप ने कहा कि ‘अमेरिका फस्ट’ उनकी सरकार का मूलमंत्र होगा। सत्ता वाशिंगटन से जनता को हस्तांतरित की जाएगी।उन्होंने अब्राहम लिंकन की बाइबल पर अपन बायां हाथ रखकर पद की शपथ ली। राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के बाद ‘यूएस कैपिटोल’ से दिए अपने पहले संबोधन में ट्रंप ने देशवासियों से वादा किया कि देश का फिर से ऐसा निर्माण किया जाएगा कि वह ‘वापस सपने संजो सके।

जनता का दर्द, मेरा दर्द
ट्रंप ने अपने 16 मिनट के संबोधन में कहा, ‘हम साथ मिलकर अमरीका और दुनिया की कार्यप्रणाली तय करेंगे। चुनौतियों का सामना करेंगे, कठिनाइयों का सामना करेंगे, लेकिन काम पूरा करेंगे।’ ट्रंप ने कहा, जनता का दर्द हमारा दर्द है। उनके सपने हमारे सपने हैं और उनकी सफलता हमारी सफलता है। हम एक दिल, एक घर और एक गौरवशाली भाग्य को साझा करते हैं।