कोरोना वायरस से बचाव के लिए सभी आवश्यक उपाय सुनिश्चित करें – कमिश्नर डॉ. भार्गव

0

कमिश्नर रीवा संभाग डॉ. अशोक कुमार भार्गव ने जिला चिकित्सालय एवं संजय गांधी स्मृति चिकित्सालय में कोरोना वायरस से होने वाली बीमारी की रोकथाम के लिए बनाए गए आइसोलेशन वार्डों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने जिला चिकित्सालय के आइसोलेशन वार्ड में बीमारी की रोकथाम के लिए रखे गये चिकित्सा उपकरणों एवं सामग्री की जानकारी ली। यहां पर हाथ धोने के लिए सेनेटाइजर, नाक और मुंह को ढकने के लिए मास्क, तापमान मापने के लिए नो टच थर्मामीटर, पल्स ऑक्सीमीटर आदि उपकरण एवं सामग्री रखी हुई पाई गई। जबकि संजय गांधी स्मृति चिकित्सालय में बनाये गये महिला एवं पुरूष आइसोलेशन वार्डों में सभी आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए। उन्होंने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस से होने वाली बीमारी को महामारी घोषित किया गया है। विश्व के अधिकांश देश इस बीमारी की चपेट में आ चुके हैं। इसलिए इसके बचाव के लिए सभी आवश्यक उपाय किये जाना जरूरी हैं।

कमिश्नर डॉ. भार्गव ने आइसोलेशन वार्डों में पलंग बिछाने की दूरी निर्धारित मापदंड के अनुसार रखने के निर्देश दिए। उन्होंने आइसोलेशन वार्डों में अत्यधिक नजदीक पलंगों को देखकर कहा कि इससे तो मरीजों में एक-दूसरे का संक्रमण फैलने की संभावना रहेगी। हालांकि जिला चिकित्सालय एवं संजय गांधी स्मृति चिकत्सालय के डॉक्टरों ने अपना तर्क देते हुए कहा कि अपने यहां अभी कोई भी मरीज कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं पाया गया है। लेकिन इस पर कमिश्नर डॉ. भार्गव संतुष्ट नहीं हुए। उन्होंने कहा कि भले ही कोई भी मरीज कोरोना वायरस से संक्रमित न हो फिर भी हमें इसके बचाव के लिए शासन के निर्देशानुसार पहले से ही सभी आवश्यक उपाय एवं व्यवस्थाएं सुनिश्चित करना जरूरी हैं।

कमिश्नर डॉ. भार्गव ने कहा कि कोरोना वायरस के संबंध में स्वास्थ्य मंत्रालय एवं मध्यप्रदेश शासन की एडवाइजरी का शत-प्रतिशत पालन सुनिश्चित कराया जाये। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से बचने के लिए जागरूकता ही प्रभावी उपाय है। इसके लिए सभी चिकित्सकों द्वारा अधिकाधिक प्रचार-प्रसार कराया जाये। प्रचार-प्रसार के माध्यम से हर नागरिक तक कोरोना से बचाव की जानकारी पहुंचाना सुनिश्चित करें। उन्होंने प्रचार-प्रसार की कमी बताते हुए विभिन्न माध्यमों से प्रचार-प्रसार कराने के निर्देश दिए। उन्होंने आइसोलेशन वार्डों के पास बोर्ड अथवा बैनर लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने संजय गांधी स्मृति चिकित्सालय में बनाये गये मेल एवं फीमेल आइसोलेशन वार्डों को देखकर कहा कि इसी तरह के आइसोलेशन वार्ड बनाने के लिए संभाग के सभी जिलों के चिकित्सालयों को निर्देश जारी किये गये हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए सभी कलेक्टर्स को निर्देशित किया गया है। उन्होंने कहा कि धार्मिक आयोजनों, मेलों, आदि के संबंध में कलेक्टर्स को धर्म गुरूओं से चर्चा करने के लिए निर्देशित किया गया है।

निरीक्षण के दौरान क्षेत्रीय संचालक स्वास्थ्य सेवाएं डॉ. एससी हरगुनानी, सीएमचओ डॉ. आरएस पाण्डेय, डॉ. एनपी पाठक, डॉ. मनोज इंदुलकर, डॉ. पीके लखटकिया आदि चिकित्सक उपस्थित थे।

कोरोना वायरस के लक्षण एवं उससे बचाव :– कोरोना वायरस के लक्षणों में बुखार आना, सिरदर्द, नाक बहना, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, खांसी, गले में खराश तथा सीने में अकड़न शामिल है। कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति के खुली जगह में छींकने व खांसने से, संक्रमित व्यक्ति से हाथ मिलाने व गले लगाने से, संक्रमित जगह से संपर्क में आने के बाद बिना हाथ धोए अपनी आंख, मुंह एवं नाक को छूने से फैलता है। कोरोना वायरस से बचाव के लिए संक्रमित व्यक्ति के निकट संपर्क में आने से बचें। नियमित रूप से दिन में कई बार हाथों को साबुन एवं साफ पानी से धोएं। बिना हाथ धोए अपनी आँख, मुँह एवं नाक को ना छुएं। आमजन अधिक जानकारी के लिए टोल फ्री नम्बर 104 पर संपर्क कर सकते हैं।

कमिश्नर ने दिया कोरोना वायरस से बचने का संदेश :- निरीक्षण के बाद कमिश्नर डॉ. अशोक कुमार भार्गव ने अपने कार्यालय में मास्क पहनकर आवेदकों की समस्याएं सुनी और कोरोना वायरस से बचने का लोगों को संदेश दिया।