लेकतंत्र को मजबूत बनाने में मीडिया का महत्वपूर्ण योगदान है – कमिश्नर डॉ. भार्गव

0

संभागान्तर्गत सतना में आयोजित पत्रकारों के प्रांतीय अधिवेशन को संबोधित करते हुये कमिश्नर रीवा संभाग डॉ. अशोक कुमार भार्गव ने कहा कि कलम के जरिये ही देश को आजादी मिली है। पत्रकारिता समाज का दर्पण है। दर्पण को किसी भी धातु के फ्रेम में मढ़ दिया जाये तब भी वह अपना मूल धर्म नही छोड़ता। उन्होंने कहा कि आईने के कितने भी टुकड़े कर दिये जायें तब भी वह वास्तविक चेहरा ही दिखायेगा। इसी प्रकार पत्रकारिता समाज का दर्पण है।

कमिश्नर डॉ. भार्गव ने कहा कि पत्रकारों ने भारतीय पत्रकारिता को जो उत्कृष्ट आयाम दिये हैं, उसका दुनिया में कोई स्थान नही हैं। हमारा स्वधीनता संग्राम पत्रकारों की कलम के बिना कभी भी मुकम्मल नहीं हो सकता था। पत्रकारों ने अपनी कलम एवं दिमाग का उपयोग जन-जन में जागृति पैदा करने के लिये किया और यूं ही नहीं कहा गया कि ”खींचों न तीर कमानों को न तलवार निकालो, जब तोप मुकाबिल हो तो अखबार निकालो“। अखबार और कलम की ताकत के आगे सत्ता की, व्यवस्था की, तंत्र की सारी ताकत बौनी हो जाती है। उन्होने कहा कि ”इस अंधियारे विश्व में दीपक है अखबार, सुपथ दिखावे आपको आंख करत है चार“। डाॅ0 भार्गव ने कहा कि सफर में मुश्किलें आयें तो हिम्मत बढ़ती है, कोई रास्ता रोके तो जुर्रत और बढ़ती है, अगर बिकने में आ जाओ तो घट जाते हैं दाम, अगर न बिकने का इरादा हो तो कीमतें और बढ़ जाती हैं। जो कलमकार सच की इबादत करता है, दुनिया उसका सम्मान, अर्चन, वंदन करती है। उन्होने कहा कि पत्रकार की परीक्षा हर रोज होती है। जब अखबार लोगों के हाथ में पहुंचता है, तो हजारों उसके परीक्षक और समीक्षक हो जाते हैं। हर आदमी अपने ढंग से अपनी रूचि के अनुसार खबरें देखता एवं खोजता है। सही समय पर खबर को खबर बनाना पत्रकारों की सबसे बड़ी चुनौती है। आज के परिवेश में मीडिया के क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव आया है। आज खबरें किसी की बंधक नही रहीं, खबरें आजाद होकर पक्षियों की तरह उड़ान भर रहीं हैं। उन्होने कहा कि लोकतंत्र की बुनियाद मजबूत बनाने में मीडिया का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। समाज में न्याय एवं सुशासन स्थापित करने में कलमकारों ने व्यवस्थाओं के प्रति आवाज बुलंद की है। उन्होंने कहा कि समाज के स्वस्थ निर्माण, लोकतंत्र के मूल्यों की स्थापना के लिये पत्रकार सतत् रूप से प्रयास करते रहें। समाज के वंचित, शोषित, पीड़ित वर्ग की समस्याओं को नजदीक से देखना, समझना और समाधान करने के लिये समुचित माहौल बनाना मीडिया की सबसे बड़ी जिम्मेदारी है।

आईजी रीवा श्री चंचल शेखर ने कहा कि लोकतंत्र में मीडिया का बड़ा महत्व है। पत्रकारिता का सफर आसान नहीं है। पत्रकारिता में अग्र पंक्ति के लोगों का महत्वपूर्ण योगदान रहता है। समाज में पत्रकारिता की विश्वसनीयता एवं पहचान बनाई है। आज सोशल मीडिया ने पत्रकारिता का विक्रेन्द्रीकरण किया है। जिसका दायरा असीमित हो गया है। इसकी परिभाषा बदल गई है। उन्होंने कहा कि पत्रकार निष्पक्ष एवं प्रभावशाली पत्रकारिता करें। सरकार के कार्यो में भी पत्रकारों की सहभागिता रहती है, जो सरकार की बात आमजन तक पहुंचानें में अपनी सहभागिता निभाते हैं। जिज्ञासा मानव चरित्र की विशेषता है, उत्सुकता समाचार पढ़ने के बाद ही तृप्त हो जाती है। पत्रकार प्रभावशीलता बनाये रखें, सच्चाई को प्रमुखता से दें तथा आर्थिक एवं निजी स्वार्थ को पत्रकारिता से दूर रखें।