अवैध उत्खनन परिवहन पर कठोरतम कार्रवाई होगी

0

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कड़े स्पष्ट में कहा है कि अवैध उत्खनन और परिवहन के मामलों में कठोरतम कार्रवाई करें। उन्होंने विगत दिनों अवैध गतिविधियों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई करने वाले जिला अधिकारियों को बधाई दी और अन्य जिलों को आगाह किया कि वे भी पूरी ताकत से अवैध उत्खनन और परिवहन के विरूद्ध कड़ी और निर्णायक कार्रवाई करें। माफिया पनपने नहीं पायें। श्री चौहान आज यहाँ मंत्रालय में वीडियो कान्फ्रेंस में प्रशासन और पुलिस के अधिकारियों से चर्चा कर रहे थे। बैठक में मिल बाँचे मध्यप्रदेश और नर्मदा सेवा यात्रा की भी समीक्षा की। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह और मंत्रि-परिषद के सदस्य उपस्थित थे।

टास्कफोर्स सुनियोजित कार्रवाई करें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अवैध उत्खनन और परिवहन की रोकथाम के लिए हर जिले में माईनिंग टास्क फोर्स गठित है। फोर्स द्वारा सुनियोजित रणनीति बनाकर विधि-सम्मत कठोरतम कार्रवाई हर स्तर पर की जाये। अवैध उत्खनन एवं परिवहन में लिप्त वाहनों को राजसात किया जाये। उन्होंने कहा कि माइनिंग विकास कार्यों के लिए वित्तीय संसाधन और रोजगार का स्त्रोत है। इसलिये यह भी जरूरी है कि वैध उत्खनन और परिवहन कार्य में बाधा भी नहीं आये। वैधानिक उत्खनन करने वाले परेशान नहीं हो। उन्होंने प्रदेश में गुंडा विरोधी अभियान चलाने के भी निर्देश दिए।

विद्यालयवार पंजीयन कार्य 10 फरवरी तक पूर्ण हों

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शिक्षा के लोक व्यापीकरण प्रयासों को जन-आंदोलन बनाने की जरूरत बताई है। उन्होंने कहा कि आठवीं तक के छात्र-छात्राओं के भाषाज्ञान को बेहतर बनाने के लिए मिल बाँचे म.प्र. कार्यक्रम 18 फरवरी को किया जा रहा है। इस दिन प्रदेश के सभी एक लाख 18 हजार विद्यालयों में समाज के सभी वर्गों के प्रतिनिधि जायें। उन्होंने विद्यालयवार व्यक्तियों का पंजीयन कार्य 10 फरवरी तक पूर्ण करने के निर्देश दिए। पंजीयन कार्य 95 प्रतिशत पूर्ण करने पर मंडला जिले को बधाई दी। उन्होंने प्रदेश अखिल भारतीय सेवाओं के अधिकारियों को कार्यक्रम में शामिल होने के निर्देश दिये।

नर्मदा जयंती का प्रभावी आयोजन हो

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नर्मदा जयंती, नमामि देवी नर्मदे यात्रा के संकल्प पालन की परीक्षा है। जयंती के आयोजन नदी संरक्षण और प्रदूषणमुक्त बनाने का प्रभावी माध्यम बने। नर्मदा महिमा, संरक्षण, बेटी बचाओ, वृक्षारोपण और नशामुक्ति पर भजन, निबंध, भाषण और चित्रकला प्रतियोगिताओं का नर्मदा तट पर आयोजन किया जाये। भजन प्रतियोगिता में प्रथम आने वाली मंडली को 50, द्वितीय को 30 और तृतीय को 20 हजार रूपये के पुरस्कार दिये जायें। भाषण, निबंध, चित्रकला आदि प्रतियोगिता के प्रथम को 5, द्वितीय को 3 और तृतीय को 2 हजार रूपए के पुरस्कार दिये जायेंगे। उन्होंने नर्मदा नदी से लाभान्वित होने वाले जिलों को भी उप यात्राएँ निकलवाने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि जयंती के आयोजनों में स्वच्छता और प्रदूषणरहित व्यवस्थाओं का विशेष ध्यान रखा जाये। पूजन सामग्री कुंड में विसर्जित की जाये। आवश्यकता अनुसार कुंड बन जाये। पूजन सामग्री में प्रदूषण करने वाली वस्तुएँ शामिल नहीं हो। घाट स्वच्छ रहें। प्लास्टिक के दियों का उपयोग नहीं होना चाहिये। कचरा पेटी और शौचालयों की समुचित व्यवस्था हो। उन्होंने यात्रा के संकल्पों के सतत् अनुपालन के निर्देश दिए।