इन दिनों में पत्नी का रखें कुछ खास ख्याल

0

औरतों को हर महीने पीरियड्स का समस्या से गुजरना पड़ता है। इसे पीएमएस (PMS) यानि प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम भी कहा जाता है। इस समय औरतों का स्वभाव भी पूरी तरह से बदल जाता है। चिड़चिड़ापन,दर्द,थकावट या फिर असहज और गुस्सा होना इन दिनों की आम समस्या होती है। आपकी पार्टनर के स्वभाव में भी हर महीने इस तरह के बदलाव आते हैं तो जरूरी है कि आप उनकी इस परेशानी को समझें। इस समय उनको अपने पति के साथ की खास जरूरत होती है। आप पत्नी की इस तकलीफ को बांट तो नहीं सकते लेकिन उसकी परेशानी को समझते हुए उसका साथ जरूर दे सकते हैं।

1. समझे पत्नी की परेशानी
जब परिवार के किसी सदस्य को डायरिया,इंफैक्शन या पेट में दर्द होती है तो वह खुद को कितना बीमार महसूस करता है। उसे खास आराम भी दिया जाता है लेकिन पत्नी तो हर महीने ही इस तकलीफ से गुजरती है। इस लिए आप भी उसकी मुश्किल को समझें और दिलासा दें कि आप उसके साथ हैं।

2. काम से दें राहत
पीरियड्स के दर्द से गुजरते हुए भी वह सारा दिन काम में लगी रहती हैं। आप इस दौरान काम में उसका हाथ बटा सकते हैं। जिससे पार्टनर को आराम मिलेगा और उसे भी पता चलेगी कि आप पत्नी की कितनी देखभाल करते हैं। कोशिश करें कि काम के लिए खुद पहल करें। इन 2-3 दिन उस पर काम का ज्यादा बोझ न डालें।

3.स्वभाव में बदलाव
बिना बात के गुस्सा आना या बात-बात पर चिडचिडापन होना इन दिनों की सबसे बड़ी परेशानी है। ऐसे में ख्याल रखें कि आप भी उसे गुस्से से पेश न आएं। 3-4 दिन बाद वह सामान्य हो जाएगी।

4. रखें खास ख्याल
ऐसा भी हो सकता है कि इन दिनों वह अकेले रहना चाहती हो या अपसे दूरिया बना लें। इस लिए उसे गुस्सा होने की बजाए धैर्य से काम लें। इन दिनों के बाद वह आपसे दोबारा पहले जितना प्‍यार करेगी।