टेलिकॉम सेक्टर में फ्री डेटा ऑफर्स की होड़, बढ़ेगी प्रतिस्पर्धा

0
235

ई-पत्रकार-रिलायंस जियो इन्फोकॉम की सितंबर 2016 में एंट्री से टेलिकॉम मार्केट में जो प्राइस वॉर शुरू हुई थी, वह भारती एयरटेल सहित दूसरी कंपनियों के हालिया ऑफर्स के चलते और तेज हो सकती है। वोडाफोन की तरफ से आए नए डेटा ऑफर और आइडिया सेल्युलर के भी कॉम्पिटिशन में कूद पड़ने की संभावना से आने वाले क्वॉर्टर में डेटा से कंपनियों की आमदनी में तेज गिरावट आ सकती है।

वोडाफोन ने शुक्रवार को ऐलान किया था कि 9 जनवरी से वह 16 रुपये प्रति घंटे की शुरुआती दर से अनलिमिटेड 4G 3G डेटा ऑफर करेगा। देश की नंबर दो टेलिकॉम ऑपरेटर के इस ऐलान से प्राइस वॉर तेज हो गई है। सिटी रिसर्च इक्विटीज की रिपोर्ट के मुताबिक, उसको डेटा रियलाइजेशन में दिसंबर क्वॉर्टर के अंत में अनुमानित 10 प्रतिशत से ज्यादा गिरावट आने का अंदेशा है।

सिटी के ऐनालिस्ट्स ने रिपोर्ट में लिखा है, ‘हमारे हिसाब से इससे डेटा रियलाइजेशन में कमी होगी, जिसकी भरपाई जियो का फ्री ऑफर खत्म होने के बाद यूसेज एलास्टिसिटी से हो जाएगी। एयरटेल बेहतर स्थिति में होगी और वह जियो की चुनौती स्वीकार करने वाली सबसे आक्रामक कंपनी रही है। इसमें उसे सुपीरियर स्पेक्ट्रम पोर्टफोलियो, बैलेंसशीट (BS) की ताकत और एग्जिक्युशन से मदद मिल रही है।’

भारती एयरटेल ने पिछले हफ्ते कहा था कि प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के जो ग्राहक उसके पास आएंगे और मिड से हाई ऐंड प्लांस सब्सक्राइब करेंगे, उनको एक साल के लिए हर महीने 3GB ज्यादा डेटा दिया जाएगा। कंपनी ने इससे पहले 8 दिसंबर 2016 को अनलिमिटेड वॉयस ऑफर दिया था। सुनील मित्तल की कंपनी का फ्री अनलिमिटेड वॉयस वाला ऑफर 4 जनवरी से 28 फरवरी तक उपलब्ध होगा। सब्सक्राइबर्स को 31 दिसंबर 2017 तक रेग्युलर प्लान से ऊपर हर महीने 3GB डेटा फ्री दिया जाएगा। रिसर्च फर्म बर्नस्टेन ने कहा है कि यह लिमिटेड टाइम पीरियड ऑफर से बाजार में स्कैरसिटी यानी कमी पैदा होगी।

रिपोर्ट के मुताबिक, ‘सभी जानते हैं कि जियो के मौजूदा फ्री ऑफर्स मार्च या उसके बाद कभी तो खत्म होंगे। नए 4G ग्राहकों के लिए भारती का ऑफर फरवरी अंत में खत्म हो जाएगा। जो ग्राहक जियो की वॉयस क्वॉलिटी से नाखुश हैं (हमारे हिसाब से बहुत से लोग हैं), उनके लिए यह उनके लिए स्विचिंग का बेहतर डील होगी।’ रिलायंस जियो इन्फोकॉम ने मौजूदा कंपनियों पर आरोप लगाया है कि वे उसको पर्याप्त पॉइंट्स ऑफ इंटरकनेक्शन नहीं जारी कर नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं।

कंपनी का कहना है कि इसके चलते उसको कॉल ड्रॉप की गंभीर समस्या का सामना करना पड़ रहा है। इस पर ट्राई ने तीन सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनियों से कुल 3,050 करोड़ रुपये का जुर्माना वसूले जाने की सिफारिश की है। सितंबर में जियो के आते ही मार्केट में प्राइस वॉर शुरू हो गया। इस बढ़े कॉम्पिटिशन के चलते वोडाफोन ग्रुप ने नवंबर में अपने भारतीय बिजनस की वैल्यू में 36,448.53 करोड़ रुपये की कमी की।