जानें क्यो गंगाजल को माना जाता है अमृत के समान?

0

आज भी हरिद्वार के गंगाजल को लेने के लिए देश दुनिया से श्रद्धालु पहुँचते है। गांगाजल की महिमा का गुणगान किसी से छिपा नहीं है। हिन्दू धर्म ही नहीं बल्कि दुनिया के सभी धर्मो में माता गंगा का महत्त्वपूर्ण स्थान है

  1. अगर आपको अपने कार्य में बाधा आ रही हैं तो अपने किचन और पूजास्थल में हमेशा गंगाजल को रखें। कर्ज को खत्म करने के लिए आपको पीतल की बोतल में गंगाजल भरकर अपने घर के कमरे के उत्तर पूर्व दिशा में रख देना चाहिए।कहा जाता है कि अगर आप अपने घर में गंगाजल भर कर ऱखते हैं तो आपके घर में हमेशा सुख शांन्ति बनी रहती है।
  2. गंगा को भगवान शिव की साली भी कहा जाता है। माना जाता है कि अगर भगवान शिव को गंगाजल चढ़ाया जाए तो इससे वे बहुत प्रसन्न होते हैं। यह व्यक्ति को शुभ और लाभ देता है।
  3. कहा जाता है कि अगर रात को सोने से पहले कमरे में गंगाजल का छिड़काव किया जाए तो रात को डरावने सपने आने बंद हो जाते हैं।
  4. आपको बता दें कि गंगा का मार्ग दिव्य औषधियों व वनस्पतियों से भरा हुआ है। इस कारण भी गंगा जल को अमृत के समान माना जाता है।