बाजार में लगातार जारी गिरावट की वजह वैश्विक कारक हैं -अरुण जेतली

0

नई दिल्लीः: केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेतली ने कहा कि बाजार में लगातार जारी गिरावट की वजह आम बजट में शेयरों में कमाई पर दीर्घकालीन पूंजीगत लाभ (एल.टी.सी.जी.) कर लगाया जाना नहीं बल्कि वैश्विक कारक हैं। यह बयान ऐसे समय में आया है, जब शेयर बाजार में नवम्बर 2016 के बाद से शुक्रवार को सबसे भारी गिरावट दर्ज की गई थी।

आम बजट 2018-19 में शेयरों से कमाई पर एल.टी.सी.जी. कर दोबारा लगाए जाने के ऐलान के बाद बाजार लुढ़के थे। शुक्रवार के कारोबार में सैंसेक्स में 800 अंकों से अधिक की एकदिनी गिरावट हुई थी जबकि निफ्टी सूचकांक में 200 से अधिक गिरावट दर्ज की गई थी। जेतली ने दक्षिण एशिया क्षेत्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए बताया कि शेयर बाजार में यह गिरावट बजट या एल.टी.सी.जी. की वजह से नहीं है। डाओ जोंस में भी 2 प्रतिशत से अधिक की गिरावट दर्ज हुई है। जेतली शुक्रवार को अमरीकी शेयर बाजार के सूचकांक डाओ जोंस में भारी गिरावट का उल्लेख कर रहे थे। जहां डाओ जोंस इंडस्ट्रीयल एवरेज शुक्रवार को 665.75 अंकों यानी 2.75 प्रतिशत की गिरावट के साथ 25,520.96 पर बंद हुआ था। बी.एस.ई. के सैंसेक्स में सोमवार को भी गिरावट जारी रही।

लोक सेवाओं को मजबूत बनाए जाने की जरूरत
जेतली ने भारत सहित दक्षिण एशिया के सभी देशों में लोक सेवाओं को मजबूत बनाने व सरकारी खरीद में निष्पक्षता सुनिश्चित किए जाने पर बल देते हुए कहा कि इससे क्षेत्र में तीव्र आर्थिक वृद्धि हासिल करने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा, ‘‘यह क्षेत्र दक्षिण एशिया है जहां दुनिया में सबसे तेज वृद्धि दर्ज की जा रही है इसलिए इस क्षेत्र में आने वाले समय में लोक या जन सेवाओं की आपूर्ति को तेज करना होगा। इस क्षेत्र के लिए यह एक महत्वपूर्ण मुद्दा होगा।’’ व्यय सचिव ए.एन. झा ने कहा कि भारत में इस समय सार्वजनिक खरीद का भुगतान औसत 7 दिन में निपटा दिया जाता है। हम इसे और कम करने की उम्मीद करते हैं।